शहर में स्वच्छता अभियान की सफाई सेवादार ही उड़ा रहे है दझिया

जगदीश सिंह, कुराली: स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा चलाया गया सबसे महत्वपूर्ण स्वच्छता अभियान है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने इंडिया गेट पर स्वच्छता के लिए आयोजित एक प्रतिज्ञा समारोह की अगुआई की थी। जिसमें देश भर से आए हुए लगभग 50 लाख सरकारी कर्मचारियों ने भाग लिया था। श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं झाडू उठाकर स्वच्छ भारत अभियान को पूरे राष्ट्र के लिए एक जन-आंदोलन का रूप दिया और कहा कि लोगों को न तो स्वयं गंदगी फैलानी चाहिए और न ही किसी और को फैलाने देना चाहिए पर आज शहर में स्वच्छता अभियान सिर्फ नाम का ही अभियान बचा है नगर कौंसिल में सेवा कर रहें सेवादार खुद कूडे को लोगो के घरो के आगे गिरा रहे है और इस कूडे को अपना पेट भरने के लिए जानवर खाते समय सडक पर बिखेर देते है और जब इन कूडे के ढेरो के पास से कोई गुजरता है तो ये जानवर उक्त लोगो पर हमला भी कर देते है और कोई भी कौंसिल अधिकारी इस बाबत कोई ध्यान नहीं दे रहा। गौहर रोड पर रिहायशी इलाका है और इस रोड से गुजर कर कई लोग वयवस्य और कई बच्चे स्कूल को जाते है पर यहाँ पर आजकल कौंसिल की और से कूडा फेंका जा रहा है । इस बाबत बोलते हुए मुनीश कुमार मट्टू ने बताया कि उन्होंने इस सवंधी एसडीएम खरड को लगभग 6 महीने पहले शिकायत दी थी पर कोई सुनवाई नहीं हुई। उन्हें कहा कि मेरे घर के आगे कूडा गिराया जा रहा है जब भी वह कूडा गिराने वाले को रोकते है तो दो दिन तक कूडा फेकना बंद हो जाता है तीसरे दिन फिर से कूडा फेकना शुरू हो जाता है । उन्होंने कहा कि इस कूडा में से इतनी गन्दी बदवू आती है कि लोग बीमार हो रहे है । व् हवा चलने से ये कूडा उड कर उनके घरो में आ जाता है उन्होंने प्रशासन से मांग की है कि जल्द इस कूडा को उठवा कर किसी और जगह पर गिराया जाये तांकि इस कूडा के कारण कोई बीमार न हो सके। इन्होने बताया कि सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल 2016 के अनुसार कौंसिल किसी भी रिहायशी कलोनी में कूडा नहीं फेंक सकता उन्होंने कहा कि अगर फिर भी कूडा फेंका गया तो वह कौंसिल के खिलाफ मानयोग अदालत में केस करेंगे।