कंग द्वारा ‘आप’ वालंटियर बता कांग्रेस में शामिल करने की खबर का खंडन

कंग का मकसद मनीष तिवारी को जीतना नहीं उनका मकसद अपनी हल्का इंचार्ज की कुर्सी बचाना है : हरीश कौशल,हरजीत बंटी

कुराली/जगदीश सिंह :बीते दिन आम आदमी पार्टी के सदस्यों को कांग्रेस ज्वाइन करवाने को लेकर पूर्व कैबनेट मंत्री ने कुछ पंजाबी अखबारों में खबर प्रकाशित करवाई थी। जिस में लिखा गया था कि आम आदमी पार्टी के शहरी प्रधान को कंग ने कांग्रेस ज्वाइन करवा दी है जिस कारण

हरजीत सिंह बंटी

अब हल्का खरड में आम आदमी पार्टी का सफाया हो गया है। इस खबर पर प्रतिक्रिया जारी करते हुए ‘आप’ जिला मोहाली प्रधान हरीश कौशल, एवं पूर्व हल्का खरड कन्वीनर हरजीत सिंह बंटी ने अलग अलग प्रेस नोट जारी कर उस खबर का खंडन करते हुए कहा कि जगमोहन सिंह कंग बौखलाहट में उलटी सीधी खबरे लगवा रहे है क्योकि उनका मकसद मनीष तिवारी को जीतना नहीं उनका मकसद अपनी हल्का इंचार्ज की कुर्सी बचाना है जो अब उन से खिसकती हुई साफ साफ नजर आ रही है। हरीश कौशल व् हरजीत बंटी ने बताया कि

हरीश कौशल

कंग साहिब का विरोध हल्का खरड में अब आम हो गया है । मीटिंगो में जाकर लोग उनसे सवाल पूछते है हल्का खरड में कांग्रेसी नेता उन्हें नजदीक नहीं आने देते। इस लिए वह बोखलाह गए है। इन्होने खबर पर प्रतिक्रिया जारी करते हुए बताया कि जिस अवतार सिंह को कंग साहिब हल्का खरड का प्रधान बता रहे है वह 2017 में ही छोटेपुर को पार्टी से निकाले जाने के बाद ही पार्टी छोड ‘अपना पंजाब पाटीर्’ में शामिल हो गए थे और आम आदमी पार्टी का शहरी प्रधान कभी भी पंजाब में कोई नहीं लगाया गया तो अवतार सिंह शहरी प्रधान कौन से कागजो मे बने ये भी कंग साहिब बता दे ।

उन्होंने कहा कि हल्का खरड में आम आदमी का नहीं,कंग और कांग्रेस का सफाया हो गया है। क्योकि न तो कांग्रेसी नेता कंग को अपने पास आने देते है और उन्होंने तो 4 बार मंत्री बन हल्के में भी कोई विकास का काम नहीं करवाया । जिस कारण हल्के में शिक्षा,सेहत सहूलते और बेरोजगारी से लोग पीडित है उन्होंने कहा कि ऐसे ही अब दुसरी पार्टी केलोगो को पकड आम आदमी पार्टी के वालंटियरों को बदनाम न करे। उन्होंने कहा कि हल्का खरड में इस बार आम आदमी पार्टी उमीदवार नरिंदर शेरगिल भारी वोट हासिल कर इनकी बोलती बंद कर देगा और लोग शेरगिल का साथ देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed