पावरकॉम ग्रिड दफ्तर में भरा बरसाती पानी बडा हादसा टला

पावर ग्रिड में खडा बरसाती पानी

जगदीश सिंह कुराली:  शहर में बरसाती पानी का ठोस निकास ना होने कारण बारिश के बाद पावरकॉम के स्थानीय दफ्तर और बिजली ग्रिड पानी के साथ भर गया। दूषित पानी ग्रिड में भरने के कारण जहां पावरकॉम की करोड़ों रुपयों की मशीनरी खतरे में पड़ गई वही सीवरेज के दूषित पानी कारण दफ्तर में खड़ा होना मुश्किल हो गया है। दफ्तर में पानी भरने से ग्रिड की तारे भी

ग्रिड के अंदर खडे पानी में डूबी तारे

बरसाती पानी में डुब गयी। सुबह से लेकर कई घंटे होती रही बारिश के कारण कौंसिल के निकासी प्रबंधों का एक बार फिर जनाजा निकल गया। शहर के निकासी नालों और सीवरेज का पानी ओबर फ्लो होकर मोरिंडा रोड की तरफ सडक पर स्थित पावरकॉम के स्थानीय उप-मंडल दफ्तर और ग्रिड में भर गया। इस संबंधी जानकारी देते हुए पावरकॉम के सहायक कार्यकारी इंजीनियर रणधीर सिंह ने बताया कि सीवरेज के नालों का गंदा पानी ग्रिड के दफ्तर में दाखिल होने कारण ग्रिड की करोड़ों रुपयों की मशीनरी को खतरा बना गया है। उन्होंने कहा कि इसके साथ जहां मशीनरी को नुकसान पहुंच सकता है वही बिजली के करंट लगने से कोई गंभीर हादसा होने का डर भी बन गया है।
नगर कौंसिल को इस सवंधी पत्र लिख किया गया था सूचित
रणधीर सिंह ने बताया कि कुछ समय पहले दफ्तर द्बारा नगर कौंसिल को इस समस्या संबंधी सुचेत किया गया था तथा जरूरी प्रबंध करने के लिए लिखा गया था।

 

उन्होंने कहा कि आज भी सारी स्थिति संबंधी कौंसिल को जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि इसके बावजूद भी ग्रिड और दफ्तर में से पानी नही निकाला जा सका जो कि चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि यदि बारिश के पानी के कारण कोई नुकसान या हादसा होता है तो उसके लिए कौंसिल जिम्मेवारी होगी।
पावरकॉम दफ्तर के बाहर नाले का भी बुरा हाल
पावरकॉम के दफ्तर में काम कर रहे मुलाजमो ने बताया कि दफ्तर के बाहर का नाला पूरी तरह से जम चूका है और इसी नाले के पानी के बहाव को मोरिंडा रोड की और जाने से भी रोक दिया गया है

ग्रिड के पास प्लाटो में खडा गन्दा पानी।

उन्हें बताया कि अगर बंद किये गए नाले का पानी मोरिंडा रोड की तरफ खोल दिया जाये और नाले साफ कर दिए जाये तो इस समस्या का हल काफी सही हो जायेगा।
ग्रिड के पास खाली प्लाटो में पानी भरने से बीमारी फैलने का खतरा
ग्रिड के पास खाली प्लाटो में खडे बरसाती पानी में भी सेंकडो मच्छर पंनप चुके है और नाले का पानी भी इस खडे पानी में मिल रहा है जिसकंा वहां बने घरो को भी नुक्सान पहुंचना शुरू हो गया है।
ईओ गुरदीप सिंह ने तुरत सफाई का काम करवाया शुरू
इस संबंधी जब नगर कौंसिल के ईओ गुरदीप सिंह से बात की तो उन्होंने तुरंत गमाडा के अधिकारियो से तालमेल कर मशीन मंगवा ग्रिड के दफ्तर में से खुद वह खडे हो गंदे पानी निकालने का काम शुरू करवाया। उन्होंने कहा कि जल्दी ही ग्रिड में से पानी निकाल दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *