September 30, 2020

24 घंटे की बरसात ने कुराली के आसपास क्षेत्र में मचाई तबाही लोगो की इमारते,घरेलु सामना बहाव में बहे,दुकानों,घरो में पानी आने से करोडो का नुक्सान

मॉडल टाउन में सिसवां नदी में पानी भरने से लोग मकानों में से समान निकालते हुए

जगदीश सिंह कुराली:  कुदरत के रंग भी अलग है अगर बारिश न हो तो सूखा अगर बारिश कुछ जायदा हो जाये तो पानी तबाही मचा दे ऐसे ही आज कुराली शहर के आस पास के गाँवो के हालत देख साबित हुआ 24 घंटो की बरसात ने पुरे क्षेत्र में तबाही मचा दी जिस कारण लोगो को करोडो रुपए का नुकसान हो गया।
मॉडल टाउन में गिरी 2 इमारते
शहर के मॉडल टाउन को बेशकीमती एरिया माना जाता है पर पिछले 24 घंटे की बरसात ने मॉडल टाउन की 2 दो मंजिला इमारतों को ध्वस्त कर दिया। मॉडल टाउन के पास बरसाती नदी थी जिस में अक्सर पानी आ जाता था जब बरसात हुई तो उस सिसवा नदी में काफी तेज गति से पानी आगया जिस कारण मॉडल टाउन में खडी 2 इमारते में व् एक नए बन रहे घर को पानी अपने साथ बहा ले गया ।
सिसवा नदी में बहता दिखा लोगो का घरेलु सामान
प्राप्त जानकारी अनुसार पहाडो में हो रही बरसात के कारण छोटी बडी करोरा में बना डैम अधिक पानी भरने से टूट गया। जिसकारण पानी ने कुराली के साथ साथ ब्लाक माजरी के कई गाँवो को अपनी चपेट में ले लिया। जिस कारण लोग का कीमती घरेलु सामान पानी में बहता हुआ आम दिखाई दे रहा था।
डैम टूटने से 40 भेंसो बहाव में बही
जानकारी अनुसार गांव छोटी बडी नग्गल का डैम टूटने से गांव के लोगो को लाखो का नुक्सान हो गया डैम टूटने से आये तेज बहाव में गांव की 40 के करीब भेंसो के इलावा लोगो के ट्रेक्टर ,वाहन और कीमती सामान भी इस बहाव में बह गए।
1993 व् 1988 में हुई तबाही से भी सीख नहीं ली प्रशासन ने
शहर के इलावा ब्लाक माजरी में पहली भी ऐसे ही तबाही हो चुकी है । 1993 में सिसवां नदी से बरसाती पानी के आने से मॉडल टाउन का पूरा क्षेत्र व् आधा शहर, 1988 में भाखडा डैम के पानी छोडने से पूरा क्षेत्र पानी में डूब गया था। जिस कारण क्षेत्र निवासियों को करोडो रुपए का नुक्सान हुआ था पर इस हादसे के बाद भी नदी के साथ लगते क्षेत्र की रजिस्ट्रीयां होती रही क्लोनिया बनती रही।
गिल ने उठाया शहर के बेघर लोगो का खर्च
मॉडल टाउन के रहने वाले 2 परिवारों की इमारते गिरने के बाद बेघर हुए लोगो का

राणा गिल छोटी बडी नग्गल में पहुँच मृतक भेंसो के मालिकों के साथ।

खर्च शिअद हल्का खरड इंचार्ज राणा रंजीत सिंह गिल ने मौके पर पहुँच उठाने की घोषणा की।उन्हें कहा कि जब तक सरकार की और से इनको कोई मदद नहीं की जाती उनके रहने खाने पिने का खर्च वह खुद उठायंगे । इसी के साथ छोटी बडी नग्गल में बरसात के पानी से भेंसे के बहने से पीडित परिवबार को भी गिल ने 1 लाख रुपय नकद दे मदद की।
एसडीएम,तसीलदार,ईओ रहे मौके पर
मॉडल टाउन में सिसवा नदी को उफान पर देख एसडीएम खरड

एसडीएम खरड मौके के हालातो का जायजा लेते हुए

विनोद कुमार बंसल,तहसीलदार खरड व् नगर कौंसिल के कार्यकारी अफसर गुरदीप सिंह ने पहुँच वहां पर जेसीबी मंगवा रेत से भर बोरियो की दीवार बनानी शुरू कर दी तांकि नदी का पानी शहर की और न बढ सके। इसके बाद कार्यकारी अफसर गुरदीप सिंह शहर में कौंसिल के मुलजिमो के साथ अपनी ड्यूटी निभाते हुए अलग अलग जगहों पर भी दिखाई दिए।
नुक्सान बढने के आशंका
भारी बरसात से होने वाले नुक्सान का अभी तक कोई भी हिसाब नहीं लगाया गया । वही पत्रकारों को बताते हुए निहोलका रोड पर स्थित नंदी प्लाईवुड के मालिक ने अपना नुक्सान बेसमेंट में पानी भरने से 50 लाख के करीब व् शहर में कई दुकानदारों ने भी लाखो का नुक्सान होने की बात कही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *