September 29, 2020

कुछ दलित संगठनों के अधिकारी गरीब लोको की मदद के बजाय अपना राजनैतिक उदेश पूरा करते है

रामा मंडी बलबीर सिंह बाघा :कुछ दलित संगठनों के अधिकारी गरीब लोको की मदद के बजाय अपना राजनैतिक उदेश पूरा करने के लिए उनकी राजनीतिक आभा को खुश करने के लिए उनका उपयोग करते हैं। दलित संगठनों के कई पदाधिकारी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से एक राजनीतिक दल से जुड़े हैं। एस हंस राज सिंघल ने अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि मैं भी एक दलित संगठन के साथ काम कर रहा था। मैंने इसे सफल बनाने के लिए दिन रात काम किया। अफसोस की बात है कि मैंने उस व्यक्ति की गलत नीतियों के कारण इस दलित संगठन को अलविदा कह दिया। हंसराज सिंघल ने कहा कि संगठन बुरे नहीं होते लेकिन कभी-कभी उन्हें चलाने वाले नेता बुरे होते हैं। लोगों को जोड़ने के बजाय, वे अंदर से टूट रहे हैं। अंत में, उन्होंने कोरोना वायरस की महामारी को देखते हुए कहा की दलित युवकों को अपने परिवारों का ध्यान रखना चाहिए और दलित संगठनों को भी उनके राजनीतिक उद्देश्यों की बजाय दलितों के लिए राशन की व्यवस्था का उपयोग करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *