जिला कानूनी सेवाएं अथारिटी व पुलिस विभाग ने संयुक्त रूप से मनाया अन्र्तराष्ट्रीय नशा विरोधी दिवस -नशा हमारे समाज पर कलंक : बीएल सिक्का

अबोहर, (गुरनाम सिंह संधू) 26 जून। जिला कानूनी सेवाएं) अथारिटी व पुलिस विभाग ने संयुक्त रूप से अन्र्तराष्ट्रीय नशा विरोधी दिवस पर स्थानीय नगर थाना के सांझ केन्द्र व सदर थाना अबोहर में जागरूकता सैमीनार आयोजित किए। जिसमें मुख्यातिथि के तौर पर लोक अदालत के सदस्य एवं पूर्व एसडीएम श्री बीएल सिक्का थे, जबकि विशेष मेहमानों में अथारिटी के पैनल एडवोकेट देसराज कम्बोज, पीएलवी दर्शन लाल चुघ, एएसआई कृष्ण लाल कंबोज, मानव सेवा समिति के सेवादार सुभाष मानव, अबोहर सांझ केन्द्र के इंचार्ज गुरमीत सिंह, नगर थाना एक के मुख्य मुंशी संदीप कुमार, सदर थाना अबोहर सांझ केन्द्र के इंचार्ज एएसआई जसवंत सिंह, एसआई हंसराज कंबोज, सदर थाना के मुख्य मुंशी सुरेन्द्र सिंह शामिल थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता नगर थाना के प्रभारी अंग्रेज कुमार व सदर थाना के प्रभारी गुरविन्द्र सिंह ने की। श्री बीएल सिक्का ने कहा कि नशा एक कलंक है जो केवल व्यक्ति को ही नहीं खोखला करता बल्कि वह उसकी आने वाली पीढिय़ों को भी खतरे में डालता है। युवा वर्ग देश का भविष्य है अगर देश का भविष्य ही कमजोर हो जाएगा तो देश तरक्की नहीं कर पाएगा। उन्होंने नौजवानों से आह्वान किया कि वह नशे जैसी बीमारी से दूर रहें और अन्य को भी इस बारे प्रेरित करें। एडवोकेट देसराज कम्बोज कहा कि आज हमारा पंजाब गबरूओं का ना होकर नशेडिय़ों का हो गया है, जो हमारे समाज के लिए दुर्भाग्य की बात है। उन्होंने कहा कि इस बुराई को खत्म करने के लिए हमे अपनी व नशा करने वालों की इच्छा शक्ति को उजागर करना होगा, तब जाकर हमारा पंजाब फिर से गबरूओं का पंजाब बनेगा। उन्होंने कहा कि नशा करने वालों के लिए सरकार द्वारा नशा मुक्ति केन्द्र भी बनाए गए है, जहां ऐसे लोगों का निशुल्क इलाज किया जाता है और उसे नशे से दवाईओं द्वारा दूर किया जाता है। इस दौरान उन्होंने नशा तस्करी करने वालों के खिलाफ एक्टों संबंधी भी विस्तार से जानकारी दी। थाना प्रभारी अंग्रेज कुमार व गुरविन्द्र सिंह ने बताया कि प्रशासन द्वारा नशा विरोधी मुहिम चलाई जा रही है और इसमें पुलिस को भारी सफलता भी मिली है। उन्होंने कहा कि नशा आज एक सामाजिक बुराई बन चुका है, जिसे हम सब मिलकर दूर कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अगर आपके आसपास कोई व्यक्ति नशा करता है या फिर कोई नशा बेचता है तो उसकी सूचना पुलिस को दें, वह उस पर तुरंत कार्रवाई करेगी और सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखेगी। दर्शन लाल चुघ ने कहा कि इसमें सबसे बड़ी जिम्मेवारी अभिभावकों की है, क्योंकि अभिभावक अपने बच्चों को समय ही नहीं दे पाते, यही कारण है कि आज बच्चे गलत रास्ते पर चल निकले है। वो जमाना गया जब बच्चे मां के डंडे से और बाप की घुड़की से समझ जाते थे। आज जमाना उन्हें प्यार से समझाने का है और उन्हें प्रोत्साहित करने का है। अन्यथा आज हमारी युवा पढ़ी नशे की गर्त में डूब जाएगी। उन्होंने आज के नौजवानों से नशा न करने की अपील की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.